हवा की तरह

चला जाता
यदि हवा ही होता।
हवा की तरह याद आता
गरमी की शाम
चिपचिपी दुपहरी की तरह।
हवा की तरह
किसी दिन गायब हो जाता
तुम्हारे भूगोल से।

One Response

Leave a Reply