डर ।

सभी दोस्तों को ईद मुबारक ।
आप का दिन मंगलमय रहे यही शुभकामना के साथ…सुप्रभात ।
– मार्कण्ड दवे ।

रमज़ान में, रोज़ा-इफ़्तार की दावत से डरता हूँ,
मैं, मुक़द्दस मोमिन, रोज़ मारे शर्म से मरता हूँ..!

रोज़ा = उपवास;
इफ़्तार = कुछ खाकर रोज़ा खोलना;
दावत = निमंत्रण भोजन;
मुक़द्दस = पवित्र;
मोमिन = मुसलमान;

मार्कण्ड दवे । दिनांकः ०७ जुलाई २०१६.

DAR

12 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 07/07/2016
  2. Dr Chhote Lal Singh Dr Chhote Lal Singh 07/07/2016
    • Markand Dave Markand Dave 08/07/2016
  3. babucm C.m.sharma(babbu) 07/07/2016
    • Markand Dave Markand Dave 08/07/2016
  4. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 07/07/2016
    • Markand Dave Markand Dave 08/07/2016
    • Markand Dave Markand Dave 08/07/2016
  5. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 07/07/2016
    • Markand Dave Markand Dave 08/07/2016

Leave a Reply