एक कहानी

एक कहानी याद सी आकर रह गयी …..

सुहाने सफर की ,
कुछ अरमानो की ,
कुछ सपनो की ,
कुछ अपनों की ,
कभी कुछ नादानी की ,
कुछ दिलों के दीवानों की ,
राहो में मिले अनजानों की ,
कुछ अपनों से कही बातों की
तो , कुछ अपनों के इरादों की
कुछ संग – बैठे हंसी – ठिठोली की
तो कभी ,
झड़प लिए उस बोली की

किसी बात पर किसी का रूठना ,
किसी बात पर किसी का मनाना
किसी का बातों को सुलझाना ,
तो , किसी का तोड़ – मरोड़ कर उलझाना

यह सब उस कहानी के हिस्से हैं .
यह तो उस कहानी के छोटे – मोटे किस्से हैं
जो बस एक दिन यूही ……..
याद सी आकर रह गयी ..

5 Comments

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 06/07/2016
  2. chandramohan kisku chandramohan kisku 06/07/2016
  3. mani mani 06/07/2016
  4. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 06/07/2016
  5. babucm C.m.sharma(babbu) 06/07/2016

Leave a Reply