तेरा नाम याद आता है

जब बैठता हु कुछ सोचने के लिये मुझे दुनियावालो का कत्ल -ए-आम याद आता है,
मजहब के नाम पर जुदा कर दिया गया हमे् अपनो ने
शर्म आता है उनका जब वो काम याद आता है,
जब भी पुछ लेता है मुझसे कोई नाम मेरा,
मुझे मेरे नाम से भी पहले एक नाम याद आता है,
तेरा नाम याद आता है…..