पेट की आग

दो पत्थरों की टक्कर से
या दो डाली के घर्षण से
आग तो
निकेलेगा ही
पर मनुष्य के
खाली पेट पर भी
आग जलता है
इससे सबका नुकसान
होता नहीं है
पर धनवान का अट्टालिका
ध्वस्त हो जाता है
इसलिए कह रहा हूँ
अरे वो नरम बिछावन में
सोनेवाले
भर पेट खाकर
मीठी डकारनेवाले
तुम्हारे पिटाई से
पीठ की चमड़ी उखड़ गई है
नोचने से
मेरा सर गंजा हो गया है
होशियार ______
क्योंकि अब मेरा पेट में
आग जल रहा है.

Leave a Reply