कुछ पल

उनकी आँखें जब हमसे जुदा होने लगीं,
घड़ियाँ कुछ पल के लिये रुक गयीं और सिसक कर रोने लगीं,
मैंने बाहें भी फैलायीं उन्हें कुछ पल और रोकने के लिये,
पर उन्होंने कहा कि मुझे तेरी आँखों में कुछ पल और देखने दे………!!

8 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 01/07/2016
  2. babucm babucm 01/07/2016
    • saurabh pandey pandey sauabh 01/07/2016
  3. Amar Chandratrai Amar Chandratrai 01/07/2016
    • saurabh pandey pandey sauabh 01/07/2016
  4. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 01/07/2016
    • saurabh pandey pandey sauabh 01/07/2016
  5. mani mani 01/07/2016

Leave a Reply