गज़ल

गज़ल

खलल रिष्ते में जब आती है
जिंदगी जहर सी बन जाती है ।

ये इतना नाजुक है षीषे की तरह
टूटती है वो बिखर जाती है ।

घायल दिल भी हो तो कोई बात नहीं
दर्द दिल का बढ़ा जाती है ।

रिष्ता विष्वास का अनूठा संगम
फूल सा खिलकर महक जाती है ।

जोड़ देता है दिल प्यार का बंधन
पल में तोड़कर जो चली जाती है ।

भरोसा हो अगर तुमको तो यकीन करो
वक्त पर बात भी बदल जाती है ।

बी पी षर्मा बिन्दु

Writer Bindeshwar Prasad Sharma (Bindu)
D/O Birth 10.10.1963
Shivpuri jamuni chack Barh RS Patna (Bihar)
Pin Code 803214

10 Comments

  1. mani mani 29/06/2016
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad Sharma (Bindu) 29/06/2016
  2. C.M. Sharma babucm 29/06/2016
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad Sharma (Bindu) 29/06/2016
  3. Amar Chandratrai Amar Chandratrai 29/06/2016
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad Sharma (Bindu) 29/06/2016
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad Sharma (Bindu) 29/06/2016
  4. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 29/06/2016
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad Sharma (Bindu) 29/06/2016

Leave a Reply