इजहार-ए-इश्क…..”अमर चंद्रात्रै पान्डेय”

न तुमको खबर हुई न ज़माना समझ सका…
हम चुपके-चुपके तुम पे कई बार मर गए….
आँखों ने बयां करना चाहा जो इजहार-ए-इश्क तुमसे…..
पर देख तेरी खामोशी वो भी मुकर गये……

9 Comments

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 29/06/2016
    • Amar Chandratrai Amar Chandratrai 29/06/2016
  2. babucm babucm 29/06/2016
    • Amar Chandratrai Amar Chandratrai 29/06/2016
  3. अरुण कुमार तिवारी अरुण कुमार तिवारी 29/06/2016
    • Amar Chandratrai Amar Chandratrai 29/06/2016
  4. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 29/06/2016
  5. sarvajit singh sarvajit singh 29/06/2016

Leave a Reply