ईद का चाँद …….

चाँद दिखे न दिखे इस बार तुम जरूर आ जाना,
क्योकि तुम ही हो मेरे ईद का चाँद …………………..!
!
तुम आ गये तो चाँद ने खुद-ब-खुद निकल आना,
बिन तुम्हारे क्या ईद और क्या चाँद ……. …………..!!
!
!
!
!
डी. के. निवातियाँ _____+++

22 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 28/06/2016
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 28/06/2016
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 28/06/2016
  2. mani mani 28/06/2016
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 28/06/2016
  3. sonit 28/06/2016
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 28/06/2016
  4. C.M. Sharma babucm 28/06/2016
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 28/06/2016
  5. Rajeev Gupta Rajeev Gupta 28/06/2016
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 28/06/2016
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 28/06/2016
  6. Amar Chandratrai Amar Chandratrai 28/06/2016
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 28/06/2016
  7. Shyam Shyam tiwari 28/06/2016
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 28/06/2016
  8. sarvajit singh sarvajit singh 28/06/2016
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 28/06/2016
  9. अरुण कुमार तिवारी अरुण कुमार तिवारी 29/06/2016
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 29/06/2016

Leave a Reply