कीमत-ऐ-इंतज़ार

उन महबूब से पूछो कीमत ऐ इंतज़ार
जो साल भर सब्र रखते है ईद के आने का
चाँद के बहाने करते है यार-ऐ-दीदार
दस्तूर-ऐ ईद मिलन, मौका गले लगाने क

14 Comments

    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 28/06/2016
  1. mani mani 28/06/2016
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 28/06/2016
  2. babucm babucm 28/06/2016
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 28/06/2016
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 28/06/2016
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 28/06/2016
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 28/06/2016
  4. Rajeev Gupta Rajeev Gupta 28/06/2016
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 28/06/2016
  5. अरुण कुमार तिवारी अरुण कुमार तिवारी 28/06/2016
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 28/06/2016

Leave a Reply