मे्रे पिता

ऐ पिता ,मेरी ज़िंदगी का मार्गदर्शन ऐसे ही करते चलना ,
जीत हो या हार सदैव मेरे संग रहना ,
मेरी हर कामयाबी पर ,अपनी आँखों से अंशु गिरा देते हो ,
वही दूसरी ओर हार मिलने पर ,अपने सीने से लगा लेते हो ,
सदैव एक योद्धा की तरह मे्रे मनोबल ऐसे ही बनाए रखना ,
ऐ पिता ,तुम्हारी ही छाया मे संसार है मेरा ,
शब्दों मे बया न हो सके ,हमारा रिश्ता है ऐसा ,
मे्रे पिता ,मेरा ये जीवन आपको समर्पित ,
सदैव स्नेह प्रेम से ऐसे ही बनाए रखना

13 Comments

    • shalu verma shalu verma 28/06/2016
  1. mani mani 28/06/2016
    • shalu verma shalu verma 28/06/2016
  2. C.M. Sharma babucm 28/06/2016
    • shalu verma shalu verma 28/06/2016
  3. Amar Chandratrai Amar Chandratrai 28/06/2016
    • shalu verma shalu verma 28/06/2016
  4. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 28/06/2016
    • shalu verma shalu verma 28/06/2016
  5. अरुण कुमार तिवारी अरुण कुमार तिवारी 28/06/2016
    • shalu verma shalu verma 28/06/2016
  6. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 28/06/2016

Leave a Reply