ग़म का दरिया

गम का दरिया धीरे धीरे नस नस मे उतार रहा हूँ
तुमसे तो मै हारा ही था खुद से भी अब हार रहा हूँ ।
लम्हा लम्हा वाकिफ है उन दर्द भरे अल्फ़ाजों से
सदियों के पन्नो पर हर पल लिखता तेरा नाम रहा हूँ ।
फ़ासलों से मेरी नाराजगी यूं ही नहीं है बे-वजह
जब मिले साहिल पे तुम मै खड़ा उस पार रहा हूँ ।

4 Comments

  1. C.M. Sharma babucm 17/10/2016
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 17/10/2016
  3. davendra87 davendra87 17/10/2016
  4. Kajalsoni 17/10/2016

Leave a Reply