नादान

हम क्या हंै अब हमें देखना है
नादान कितना हमें सीखना है ।
बुराई हममंे है हम उसको त्यागें
अब होश आया अब तो हम जागें ।
हम मंे रावण उसे मारना है
मन में जो बैठा उसे ताड़ना है ।
सत्य राहों पर चल के दिखायें
धर्म क्या है जो सबको बतायें ।
मोह आलस को अब फेकना है
नादान कितना हमें सीखना है ।
प्यार ही सीखें सबको सिखायें
अंधे को भी हम राह दिखायें ।
काहे को दुश्मन से अब डरना है
कर्म महान है जो अब करना है ।

बी पी षर्मा बिन्दु

Writer Bindeshwar Prasad Sharma (Bindu)
D/O Birth 10.10.1963
Shivpuri jamuni chack Barh RS Patna (Bihar)
Pin Code 803214

10 Comments

  1. babucm babucm 24/06/2016
  2. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad Sharma (Bindu) 24/06/2016
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 24/06/2016
  4. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 24/06/2016
  5. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad Sharma (Bindu) 24/06/2016
  6. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad Sharma (Bindu) 24/06/2016
  7. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad Sharma (Bindu) 24/06/2016
  8. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad Sharma (Bindu) 24/06/2016

Leave a Reply