कोई नहीं था…..

कोई नहीं था कभी यहां
इस सृष्टि में
सिर्फ
मैं…
तुम….और
कविता थी!

One Response

  1. Ravinder Beriwal 17/03/2014

Leave a Reply