दोगले कायर उर्फ सेक्युलर हिन्दू

दोगले, कायर हिंदू उर्फ सेक्यूलर —

फैलती बिसात हो रहा है पक्षपात और
हिंदू बन बैठे शतरंज वाली गोटियां
छोड़ योगियों का योग करें सब माँस भोग
सबने पहन लीं है जालीदार टोपियां
हुआ है रेबीज रोग जिन कूकुरो को उन
कूकुरो को सब देखो डाल रहे रोटियाँ
कैरना की कालिख से धो के मुँह आज सब
इफ्तार जाकर चबा रहे हैं बोटियाँ

कवि देवेन्द्र प्रताप सिंह “आग”
9675426080