फिक्र

जिक्र से ही जिसके दिल रोशन होंगा ।.
लफ़जो से बयां न उसका ताअरुफ होंगा ।
मर्जी से ही उसके सब कुछ होंगा ।.
फिक्र किस बात की देंगा वही गर देना होंगा।.
(अशफाक खोपेकर)

5 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 21/06/2016
  2. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 21/06/2016
  3. babucm babucm 21/06/2016
  4. अरुण कुमार तिवारी arun kumar tiwari 21/06/2016

Leave a Reply