गजल

कह दो उनसे कि, हमारी गलियों से न गुजरा करें वो ।

हर शख्स की शख्सियत से न वाकिफ हुआ करें वो ।

कहीं बदनाम न हो जाएं मेरे अजीज दोस्त

कह दो उनसे कि,

उनकी नजरों से नजरें न मिलाया करें वो ।

सजदे महफिल में रुसवा करने की जरूरत नहीं

कह दो उनसे कि,

अपनी पलकों को यूँ ही न उठाया करें वो ।

-आनन्द कुमार

5 Comments

  1. Bimla Dhillon 20/06/2016
  2. अरुण कुमार तिवारी arun kumar tiwari 20/06/2016
    • आनन्द कुमार ANAND KUMAR 21/06/2016
  3. आनन्द कुमार ANAND KUMAR 21/06/2016
  4. C.M. Sharma babucm 21/06/2016

Leave a Reply