क्या मुझे इन्साफ………..

एक लड़की बदहवाश जहन में सवालो का तूफान लिए पड़ी हॉस्पिटल के बेड पर सोच रही है |

क्या मुझे इन्साफ मिल पाएगा ?
क्या इस रेप के बाद समाज मुझे अपनाएगा ?
क्या वर्दी वाला कोई अफ आई आर लिख पाएगा ?
क्या सच का ढिंढोरा पीटने वाला मीडिया,
मेरा सच लिख पाएगा ?
क्या महजब के नाम पर घर जलाने वालो में से कोई,
मेरे नाम का दीया जला पाएगा ?
क्या चलचित्रों के चित्र फाड़ने वालो में से कोई,
मेरे नाम का चित्र लगा पाएगा ?
क्या अपने मुंह मिया मिठु बन्ने वाले एन जी ओ,
मुझ पर हुए सितम की कहानी कह पाएगा ?
चल छोड़ “मनी” लिखना मुझे अल्फाज़ो में,
अकेला कब तक मतलब परस्तो से लड़ पाएगा ?

14 Comments

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 19/06/2016
    • mani mani 20/06/2016
    • mani mani 20/06/2016
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 19/06/2016
    • mani mani 20/06/2016
  3. C.M. Sharma C.m.sharma(babbu) 19/06/2016
    • mani mani 20/06/2016
  4. योगेश कुमार 'पवित्रम' 19/06/2016
    • mani mani 20/06/2016
  5. अकिंत कुमार तिवारी 19/06/2016
    • mani mani 20/06/2016
  6. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 20/06/2016
    • mani mani 20/06/2016

Leave a Reply