मेरे पापा , मेरे हीरो

इस संसार में आते ही
ईश्वर से मैंने है उनको पाया .
उन्होंने मुझे एक पहचान देकर
इस संसार से है परिचित कराया .
दिया सहारा उन्होंने मुझको
और सर उढ़ाकर चलना सिखाया .
चोट खाकर गिर जाने पर
उस दर्द से लड़ना सिखाया.
फिर दुबारा उसी राह पर
हिम्मत से आगे बढ़ना सिखाया .
डर –डर के ज़िन्दगी को
जीना कायरता बताया .
हर डर से लड़कर जीने को
असल जीना बताया .
सबकी मदद करने को हमेशा
आगे खड़े रहना सिखाया .
उनकी गोद में सर रखकर
सारे दुःख भूल जाती हूँ.
उनका प्यार ही मेरा संसार है
जिसे मैं जीवनभर महसूस कर सकती हूँ .
सबके हीरो तो बहुत से होंगे
पर मेरे तो वो एक ही हैं .
मेरे पापा ही तो मेरे
सबसे प्यारे और अच्छे हीरो हैं .

कवियत्री – ऋचा यादव

14 Comments

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 19/06/2016
    • Richa Yadav richa 19/06/2016
    • Richa Yadav Richa Yadav 19/06/2016
    • Richa Yadav Richa Yadav 19/06/2016
  2. babucm C.m.sharma(babbu) 19/06/2016
    • Richa Yadav Richa Yadav 19/06/2016
  3. आदित्‍य 19/06/2016
    • Richa Yadav Richa Yadav 19/06/2016
  4. Kajalsoni 19/06/2016
    • Richa Yadav Richa Yadav 19/06/2016
  5. अरुण कुमार तिवारी arun kumar tiwari 19/06/2016
  6. vinay kumar vinay prajapati 21/06/2016

Leave a Reply