मोहब्बत

अंजान राहोपर चलना आसां होंगा गर दिल मे इमान है।. मुश्किलो पर मात होंगी गर मुश्किलकुशा पर ऐतबार है।.
लाया था क्या जो खोजाने का डर है न तेरा कुछ जमीपर न आसमांपर है।.
मोहब्बत इखलास से जियों दोस्तो जाना आखिर मे चार कांधोपर है।.
(अशफाक खोपेकर)

8 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 19/06/2016
  2. Richa Yadav richa 19/06/2016
  3. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 19/06/2016
  4. babucm C.m.sharma(babbu) 19/06/2016
  5. mani mani 19/06/2016
  6. अरुण कुमार तिवारी arun kumar tiwari 19/06/2016

Leave a Reply