इश्क का खुमार

इश्क का खुमार मुझ पर भी छाने लगा,
तन्हा हो दुनिया से, मैँ भी मुस्कुराने लगा |
नैनो का नैनो से मिलना, बिना कुछ कहे ढेर सारी बातें ,
लिख मोहब्बत के नाम गीत हर रोज गुनगुनाने लगा |
भूख रूठ गयी देख मेरी उससे मिलने की बेचैनी,
नींद कहाँ आँखों में, हर रात करवटे बदलने लगा |
क्या सही क्या गलत सोचना मुमकिन नहीं,
रह रह कर उसको पाने का ख्याल खलने लगा |
कुछ नए अहसास, कुछ नए ख्वाबो को लिए,
खुदा मान उसे, उसके नाम की आयते पढ़ने लगा |

10 Comments

    • mani mani 19/06/2016
  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 18/06/2016
    • mani mani 19/06/2016
  2. अरुण कुमार तिवारी arun kumar tiwari 18/06/2016
    • mani mani 19/06/2016
  3. C.M. Sharma C.m.sharma(babbu) 18/06/2016
    • mani mani 19/06/2016
  4. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 18/06/2016
    • mani mani 19/06/2016

Leave a Reply to arun kumar tiwari Cancel reply