कुछ रचनाएं………

आँखों से अश्क ना बहते,
मुड़ मुड़ ना देखती निगाहे,
गर फितरत होती तेरी,
यु ही बेवजह मुस्कुराने की,

————————–
हर मुश्किल का जवाब हु,
कहा-अनकहा तेरा अल्फाज़ हु,
तन्हाइयो में किसी को याद करते वक्त,
गले से लग जाऊ, मैँ वो किताब हु |

———————————–

उम्मीद उस चीज़ की करो,
जिसमे आप को सकून मिल सके,
वर्ना दिल बहलाने के और भी तरीके है इस जहां में |

———————————-

मेरे हर अंदाज़ का, मेरे हर राज का,
जिक्र तेरे अल्फाज़ो में होना,
गवाही देता है तेरे इश्क की,
तेरे दिल में मेरी तस्वीर का होना |

12 Comments

    • mani mani 18/06/2016
    • mani mani 18/06/2016
  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 18/06/2016
    • mani mani 18/06/2016
  2. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 18/06/2016
    • mani mani 18/06/2016
  3. अरुण कुमार तिवारी arun kumar tiwari 18/06/2016
    • mani mani 18/06/2016
  4. C.M. Sharma C.m.sharma(babbu) 18/06/2016
  5. mani mani 18/06/2016

Leave a Reply