||आरक्षण की राजनीती ||

“छाती पीट जो चिल्लाते है
आरक्षण की मांग सुनाते है
दम नहीं काबिलियत में जिनके
वो शुद्र गंवार कहलाते है ,
रखते भरोसा जो खुद के हुनर पे
वो तुफानो से टकराते है
खाते अपने मेहनत की रोटी वो
इसीलिए सवर्ण कहलाते है || “

5 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 17/06/2016
  2. विजय कुमार सिंह 17/06/2016
  3. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 17/06/2016
  4. omendra.shukla omendra.shukla 17/06/2016
  5. Dheeraj4uall 17/06/2016

Leave a Reply