परिंदे

रख सब्र दिलेै नादाँ,
पत्थर भी पिघल कर मोम हो जाएंगे,
समंदर में कितना भी उड़ ले परिंदे,
कभी-न-कभी धरती पर वापस आएंगे ।

|

8 Comments

    • mani mani 14/06/2016
  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 14/06/2016
    • mani mani 14/06/2016
  2. विजय कुमार सिंह 14/06/2016
  3. mani mani 14/06/2016
  4. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 14/06/2016
    • mani mani 14/06/2016

Leave a Reply