नशे का मुद्दा

नशे का मुद्दा हर तरफ छा गया,
लगता है पंजाब में चुनावी मानसून आ गया,
लगे है सभी नशे को रोकने,
कुर्सी की चाहत लिए, लगा कोई भी जुगत,
उजड़ गए घर, छीन गया सहारा बूढ़े माँ-बाप का,
क्या मोल होगा बच्चों के टूटे खवाबो का ?
हर पार्टी लग पड़ी आज नशे को कोसने,
सरकारी लोग कुर्सी पे बैठे हरे, गुलाबी पत्ते सेकें,
देशी हो या अंग्रेजी, अधिया हो या पउा,
आसानी और सस्ता मिल जाये,
हर गल्ली-मोहल्ले में खोल दिए है ठेके,
हॉस्पिटल में इलाज, स्कूलों में एडमिशन,
मुमकिन नहीं बिना सिफारिश और पैसे के,
किसान मर रहा, लोग बेहाल महंगाई से,
तनख्वाह देने को नहीं, मर्सिडीस खरीद ली गाड़िया,
अनाज गुम करोडो का, फ्री रेल सेवा चला दी,
परवाह नहीं किसी को,
हम नशा मुक्त पंजाब बनाएंगे, नयी क्रन्ति लाएंगे,
जितने मुंह उतने वादे,सिर्फ कुर्सी इनके इरादे,
नशे का मुद्दा हर तरफ छा गया,
लगता है पंजाब में चुनावी मानसून आ गया,

6 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 14/06/2016
    • mani mani 14/06/2016
  2. विजय कुमार सिंह 14/06/2016
    • mani mani 14/06/2016
  3. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 14/06/2016
    • mani mani 14/06/2016

Leave a Reply