टुटा दिल

कुछ नफरत सी हो गई
दिल को किसी से शिकायत सी हो गई

उन्‍होने कहा पहले तो ये मेरा घर था
अब इसकी हालत खण्‍डर सी हो गई

वफादारी के नाम पर बिक गया में
जिंदगी(धडकंन) से कुछ उधारी सी हो गई

कोई नही मिला खरीदार
अब इंतज़ार करना आदत सी हो गई

जो थी मालिक ऐ दिल की
वो अब किरायेदार सी हो गई|

:-अभिषेक शर्मा

8 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 13/06/2016
  2. विजय कुमार सिंह 13/06/2016
  3. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 13/06/2016
  4. आदित्‍य 14/06/2016

Leave a Reply