सफलता

कर प्रयास ,एक दिन मिलेगी सफलता
अगर ना मिले, तो मत हो तु निराश

जब हवा रूकेगी, तो होगी बरसात
ऐ किसान तो कर पारिश्रम ,मत हो उदास

यू ही उड़ती रहो तितलियो , रुको मत
हैं पथजड का मौसम, आगे होगी बहार

गिर गया नन्हा फरिस्ता , मां मत हो हैरान
आगे ये होगा तेरा रक्षक ,या देश का जवान |
-अभिषेक शर्मा

3 Comments

  1. ad231 12/06/2016
  2. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 13/06/2016

Leave a Reply