सिपाही की वो खुशी

सबकी खुशी में , में खुश…
मेरी खुशी ना और कुछ
मिल गया मुझे मेरा सब कुछ
मेरी आंख बंद थी, दिखा ना और कुछ
वतन के लिए निकली सांस, चाहा ना और कुछ|
-अभिषेक शर्मा

8 Comments

  1. विजय कुमार सिंह 12/06/2016
  2. babucm C.msharma(babbu) 12/06/2016
  3. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 12/06/2016
  4. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 12/06/2016

Leave a Reply