सौगात ।

लिफ़ाफा खोलते ही, ज़िंदगी की सौगात निकली,
शायद उसने सचमुच,ज़िंदगी मेरे नाम कर दी…!

लिफ़ाफा = एन्वलोप; सौगात = तोहफ़ा;

मार्कण्ड दवे । दिनांकः १० जून २०१६. http://mktvfilms.blogspot.in

SAUGAT

Leave a Reply