मुकाम ।

मुकाम ।

बेदख़ल न कर पाओगे,ख़यालों से तुम,

मेरा भी कोई वज़ूद है, मुकाम है यहाँ..!

बेदख़ल करना = कब्जा या अधिकार हटा देना; वज़ूद = अस्तित्व – पता-ठिकाना;

मार्कण्ड दवे । दिनांकः ३ जून २०१६. http://mktvfilms.blogspot.in
MUKAM

8 Comments

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 11/06/2016
    • Markand Dave Markand Dave 12/06/2016
  2. C.M. Sharma C.m. sharma(babbu) 11/06/2016
    • Markand Dave Markand Dave 12/06/2016
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 11/06/2016
  4. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 12/06/2016
    • Markand Dave Markand Dave 12/06/2016

Leave a Reply