जिना आजाये

होंगी नहीं रुसवाई ज़माने से मुसीबत में जीना आजाए !
न हो उम्मीद किसी से तो तसल्ली से जीना आजाए !
मुश्किल नहीं है जीना गर अपना बनाना आजाए !
मज़ा आएंगे जामे कौसर का गर pina तुम्हे आजाए !
[ आशफाक खोपेकर]

5 Comments

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 09/06/2016
    • Ashfaque Khopekar 09/06/2016
  2. mani mani 09/06/2016
  3. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 10/06/2016
  4. babucm babucm 10/06/2016

Leave a Reply