यह कैसी खुशबू आई…

यह कैसी खुशबू आई कि चमन खिल उठा,
यह कैसा तूफ़ान आया कि पर्वत हिल उठा,
शायद तेरे आने की खबर है दर-ब-दर,
यूँ ही मेरा दिल जोरों से मचल उठा ।

विजय कुमार सिंह

7 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 08/06/2016
    • विजय कुमार सिंह 08/06/2016
    • विजय कुमार सिंह 12/06/2016
  2. Rajeev Gupta Rajeev Gupta 08/06/2016
    • विजय कुमार सिंह 12/06/2016
  3. C.M. Sharma babucm 09/06/2016
    • विजय कुमार सिंह 12/06/2016

Leave a Reply