खामोश ज़बान

तुम भूल नहीं सकते हो ये पता हैं हमें, पर हम जी सके वो यादें दे दो हमें
मेरी सान्से रूक जाती है तुमारी खामोशी देखके ,अब ना कोई पुछे वो कहानी हम से
यू ना कुछ छिपा हम से, तेरी उदासी ने कह दिया हम से
तन्हाई से सब जान लेगे अब हम ! प्‍यार का कुछ अलग रिश्ता बना लेंगे अब हम
-अभि शर्मा

Leave a Reply