मेरे आंगन में

मेरे आंगन में

हरी भरी हरियाली
फै ली हो मेरे आंगन में
मेरा घर बगीचा हो
मैं रहता हों मधुबन में ।
ना कहीं प्रदूषण हो
ना कहीं पर शोर हो
हरियाली ही हरियाली
बस मेरे चारों ओर हो
तभी तो जीना, जीना होगा
वरना बेहतर है मर जाने में ।
मेरा घर बगीचा हो
मैं रहता हों मधुबन में ।
प्रकृति की सुन्दर वस्तुएं
ओर सारी सुखमय चीजें
खाने पीने की सारी सुविधा
बस छोटे घर में हो मेरे
मैं रहता हों छत पर उसके
घर बना हो तलहटी में ।
मेरा घर बगीचा हो
मैं रहता हों मधुबन में ।
या फि र मेरे घर के अन्दर
समस्त समुन्द्र हो सारे
सारी उसमें नदियां हों
आसमान के हों तारे
समुन्द्र के मध्य का टापू
बस हो मरे आंगन में ।
मेरा घर बगीचा हो
मैं रहता हों मधुबन में ।

Leave a Reply