मेरा दिल , तेरी याद

यादो का सफर भी अजीब होता है ,
कोई दूर होकर भी करीब होता है ,
दिल रो देता है उसे याद करके अक्सर
जो हर पल इस दिल के करीब होता है

में तेरी आँखों में अश्को की तरह रहती हूँ
जुदा कर भी दे तोह चली आऊँगी !!!!!
जुबा से न बोल मुझे रहने दे …..
तेरी बेरुखी से खुद ही चली जाऊंगी

घडी दो घडी तेरे पहलू में रह लू ज़रा
क्या पता कभी लौट के में आऊँगी
गम तोह तुझको भी है मेरे जाने का
तेरे ना कहने पर भी समझ जाऊँगी

इस बार चली मन की इस आंधी में
टूटे पते की तरह जाने कहा जाऊँगी
तू बुलएगा रो रो के मुझे फिर से अगर
तेरे दिल में बसी यादो की तरह मुस्काऊँगी !!!!!!!!!

4 Comments

  1. विजय कुमार सिंह 01/06/2016
    • tamanna tamanna 01/06/2016
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 01/06/2016
  3. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 03/06/2016

Leave a Reply