आज का किसान

आज का किसान

आज का किसान
बन गया है हैवान
छिडक़ खेतों में जहर
बना रहा भूमि विरान ।
चारों तरफ थी जो वह
जीवन से भरी हरियाली
आज बनी है वह देखो
झूठी शान हमारी निराली
हर खेत में कांटे बिखेरती
साथ चली है यह विज्ञान ।
छिडक़ खेतों में जहर
बना रहा भूमि विरान ।
खेतों में डाल अनतुला
उर्वरक अपने हाथों से
उगाता है फ सल ज्यादा
अपने ही मन से
करता है देखभाल
बनकर के अनजान।
छिडक़ खेतों में जहर
बना रहा भूमि विरान ।

Leave a Reply