जल बचाएँ, जीवन बचाएँ

बूँद-बूँद से भरता है सागर l
जल की कीमत को पहचानो l
व्यर्थ करो ना कभी तुम इसको l
जल अमृत है,ये तुम जानो ll

व्यर्थ अगर जल बहता जाये l
समय पर पानी मिल न पाये ll
बिन पानी फिर प्यास सताये l
पल-भर भी हम जी ना पाये ll

जल से ही खेती लहराए l
चारो और हरियाली छाएll
जल है प्रगति का उपहार l
जल संचय करो बारम्बार ll

नहाना हो जब भी अगर l
बाल्टी में लो पानी भर ll
ब्रुश जब भी किया करो l
मग्गे में पानी लिया करोll

जल की कीमत जिसने जानी l
उसको कभी ना हो परेशानी ll

————-

6 Comments

  1. Dr Swati Gupta Dr Swati Gupta 31/05/2016
    • Rajeev Gupta Rajeev Gupta 31/05/2016
  2. mani mani 31/05/2016
    • Rajeev Gupta Rajeev Gupta 31/05/2016
  3. sarvajit singh sarvajit singh 31/05/2016
  4. Rajeev Gupta Rajeev Gupta 01/06/2016

Leave a Reply