हवा और महबूबा

हवा और महबूबा

आंधी यूं तेज होकर ना चल
फू लों में लचक आ जायेगी ,
नाजूक है मेरी प्यारी महबूबा
कमरिया बल खा ही जायेगी ।
आंधी का एक छोटा झोंका भी
छुता है जब उसके बदन को
आह निकल पड़ती है मुंह से
बहकाता है पागल मन को
इस धूल भरी हुई आंधी से
कहीं बहक ही वो जायेगी ।
नाजूक है मेरी प्यारी महबूबा
कमरिया बल खा ही जायेगी ।
शर्म कर कुछ तो तु ऐ हवा
यूं उसके आंचल को ना उड़ा
उड़ता है जब उसका आंचल
बहक जाता है मन पागल मेरा
तरसाती है मुझको जो तु हवा
क्या उसको भी ऐसे तरसायेगी ।
नाजूक है मेरी प्यारी महबूबा
कमरिया बल खा ही जायेगी ।

Leave a Reply