बसन्त जी का आगमन ।

बसन्त जी का आगमन ।

आगमन हुआ बसन्त जी का
वृक्ष स्वागत हैं कर रहे ,
भर-भर अंजलि बिखेर रहे
अपने कोमल पीले पत्ते ।
सरसों पगड़ी पीली बांधें
लहर-लहर लहरा रही ।
पवन बांकी हिलोरें देकर
सुन्दर झुला झुला रही
ऐसे में मदमस्त होकर
बसन्त जी तुमको बुला रहे
आगमन हुआ बसन्त जी का
वृक्ष स्वागत हैं कर रहे ।
ऐसे मूलवान क्षणों में
जीव जन्तु भी नही हैं पीछे
खेतों की हरी भरी मेंढो पे
खुले विचरते निडर से
धरती आंचल में खिली धूप का
आनन्द कैसे हैं ले रहे ।
आगमन हुआ बसन्त जी का
वृक्ष स्वागत हैं कर रहे ।
मां की छाती पर चला कर हल
पाई है ये अद्भूत हरियाली
चारों ओर के फू लों से फै ली खुशहाली
फि र यह हरियाली झाले देकर
बुला रही अपने प्रियतम को
आओ तन मन को छू लो मेरे प्रिये ।
आगमन हुआ बसन्त जी का
वृक्ष स्वागत हैं कर रहे ।

2 Comments

  1. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 30/05/2016
  2. Rajeev Gupta Rajeev Gupta 30/05/2016

Leave a Reply