माँ का दिल

तू सहारा , तू किनारा , तू मेरी पतवार है
दिल धड़कता है ये मेरा , सांसो की तू ही पुकार है

तेरे चेहरा , तेरी बातें , तू मेरे जीवन की धार है
मेरी ममता , मेरी खुशियों का तू ही दारमदार है

मेरे बेटे, तेरी बातें , तेरी यादें , तुझे ही ढूंढती हूँ हर घडी में
तेरी मम्मी , तेरे दीदार को है अब तरसती मैँ

तू मुझको छोड़ आया कहीं इस दुनिया के झमेले मैँ
मेरी बाहें , मेरी राहे , मेरे इस दिल अकेले में

मुझको तेरी ,सलामती ही, चाहिए हर पल
तेरी दौलत , तेरी गाडी , तेरे पैसो की मुझे न फ़िक्र

चले आना , मेरे दिल मैँ , अकेले हो जाने पर
मेरे अंचल , मेरी ममता की याद आने पर

मिलूंगी हर पल तुझे , तेरे दिल के शामियाने में
बसेंगी तेरी दुनिया , तेरा घर , मेरी आँखों में हरदम

में चाहती हूँ तुझको , मेरी आखिरी सांस की डोरी तक
चले आना मेरी अर्थी को , शमशान पहोचने तक ….

Leave a Reply