खिलौना – मेरी शायरी……. बस तेरे लिए

खिलौना

खेलो ना मेरे दिल से
अपना दिल बहलाने को ……….
खिलौने तो मिलेंगे ओर भी बहुत
तुम्हें तोड़ने के लिए ……………

शायर : सर्वजीत सिंह
sarvajitg@gmail.com

6 Comments

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 27/05/2016
    • sarvajit singh sarvajit singh 27/05/2016
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 27/05/2016
    • sarvajit singh sarvajit singh 27/05/2016
  3. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 27/05/2016
  4. sarvajit singh sarvajit singh 27/05/2016

Leave a Reply