राम नाम…..

राम नाम सत्त्य है, कह लोग आगे बढ़े,
जल्दी करो भाई, अब किसका इंतज़ार ?
कुछ रो रहे, कुछ चुप से खड़े, उठा लिया फिर मुझे चार कंधो ने,
राम नाम सत्त्य है, कह लोग आगे बढ़े,
नंगा तन करके नहला दिया,
जिस को कभी ढका था,
बेशकीमती लिबासो में,
बेजान पुतला बन, सफ़ेद कपडे में लिपटा,
घर की दहलीज़ पर पड़ा था,
राम नाम सत्त्य है, कह लोग आगे बढ़े,
कोई मांगने वाला ना आजाये, किसको क्या दिया ?,
कब होगा बॅटवारा, जिक्र हो रहा था बातों ही बातों में,
पिता जी कह अश्रु बह रहे थे उनके भी बेहिसाब,
ताना मारते थे जो, क्या किया बूढ़े तुमने ?
निकाल के दे जो भी है तेरे खातों में,
राम नाम सत्त्य है, कह लोग आगे बढ़े,
किसी को घर जाने की जल्दी, किसी को काम की फ़िक्र,
मेरे मुंह में डाल घी, कुछ सामग्री, कर दिया मुझे आग के हवाले,
कुछ चीखे उठी मत जलाओ मेरे बाबू जी को,
बाबू जी, बाबू जी, मेरे बाबू जी
फिर चुपी छाई, सब्र रखो आगे की करवाई का करो जिक्र,
राम नाम सत्त्य है, कह लोग आगे बढ़े,
मेरे बनाए रिश्ते, दोस्त, जानपहचान वाले,
खड़े के खड़े रहे गए,
महल, गाड़िया, पैसो के अम्बार धरे के धरे रह गए,
राम नाम सत्त्य है, कह लोग आगे बढ़े,
झट से मेरी नींद खुली, कुछ पसीना था माथे पे,
दिल भी जोर जोर से था धड़क रहा,
रेत के टीलों की तरह, बिखर जायेगा सब,
ऐ इंसा तेरा कुछ ना था ना कुछ होगा,
खली हाथ आया है तू खाली हाथ जायेगा तू,
राम नाम सत्त्य है, कह लोग आगे बढ़े,

10 Comments

  1. babucm babucm 26/05/2016
    • mani mani 26/05/2016
  2. Rinki Raut Rinki Raut 26/05/2016
    • mani mani 26/05/2016
  3. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 26/05/2016
    • mani mani 26/05/2016
  4. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 26/05/2016
    • mani mani 26/05/2016
  5. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 26/05/2016
    • mani mani 26/05/2016

Leave a Reply