दिल की गागर….

रोज़ ठोकरें खाता हूँ मैं….
दर्द भी रोज़ ही पीता हूँ मैं….
दिल की गागर मेरी फिर भी…
भरती है न छलकती है….
\
/सी.एम. शर्मा (बब्बू)

11 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 26/05/2016
    • babucm babucm 26/05/2016
    • babucm babucm 26/05/2016
  2. ALKA प्रियंका 'अलका' 26/05/2016
    • babucm babucm 26/05/2016
  3. mani mani 26/05/2016
    • babucm babucm 26/05/2016
  4. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 26/05/2016
    • babucm babucm 26/05/2016
  5. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 26/05/2016
    • babucm babucm 27/05/2016

Leave a Reply