मेरे साथिया

साथ मेरे साथिया तुम ऐसे ही चलते जाना,
हाथ पकड़ लो मेरा, कहीं राहों में बिछड़ ना जाना |
मुकदर किस मोड़ पर करवट बदल ले,
डरता है दिल, किसी और फूल पे मोहित ना हो जाना |
कितने ख्वाब, कितने अहसास संजोए है मैंने,
हो जाये मुझसे गर कोई खता, तो रूठ ना जाना |
काँटों की चुभन मुझे है मंजूर,
मेरी खुशियों के लिए किसी के चाँद तारे तोड़ मत लाना |
हर हाल में खुश हु तेरे संग, ऐ हबीब मेरे
हर शब आगोश में मुझे ले, प्यार भरा कोई गीत सुनाना |
साथ मेरे साथिया तुम ऐसे ही चलते जाना,

6 Comments

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 25/05/2016
    • mani mani 25/05/2016
  2. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 25/05/2016
    • mani mani 26/05/2016
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 25/05/2016
    • mani mani 26/05/2016

Leave a Reply