मेरे घर का पता

वो मेरे घर का पता पूछते हैं,
चाँद-तारों के बीच दो गज जमीन है तन्हा ।
सन्नाटे, खामोशियों से बातें करते हैं,
शोर देखता है दूर बैठकर तन्हा ।

विजय कुमार सिंह

2 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 24/05/2016
  2. babucm babucm 25/05/2016

Leave a Reply