तेरी आँखें….

निगेहबान हैं तेरी आँखें….
या है उसमें प्यार का वो नशा…
भटकने भी न दें मुझको…
बहकने भी न दें मुझको…
\
/सी.एम. शर्मा (बब्बू)

6 Comments

  1. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 23/05/2016
    • babucm babucm 23/05/2016
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 23/05/2016
    • babucm babucm 23/05/2016
  3. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 23/05/2016
  4. babucm babucm 23/05/2016

Leave a Reply