मेरी कमाई

कौन देगा हिसाब मेरी कमाई का ?
कहीं बिजली कर दी मुफ्त,
कहीं बल्ब बाँट दिए मुफ्त,
कहीं गैस दे दी मुफ्त,
कहाँ रखा था इतना पैसा गुप्त,
कौन देगा हिसाब मेरी कमाई का ?
कोई मरा करोड़ो बाँट दिए,
कोई जीता करोड़ो भेट दिए,
तुम कहते हो कुछ नहीं हमारे पास,
फिर कहाँ से करोड़ो बाँट दिए,
कौन देगा हिसाब मेरी कमाई का ?
महसूल देते हम,
खून पसीना बहाकर,
तुम बाँट देते हो,
वोट की आस लगा कर,
कौन देगा हिसाब मेरी कमाई का ?
दो उसको जिसको है दरकार,
जिसका पहले पेट भरा,
उसको देना बेकार है,
मत करो कोशिश अपने,
दागदार दामन को छुपाने की,
सब जगह एक जैसी सरकार है,
कौन देगा हिसाब मेरी कमाई का ?
सब को मिलकर कहना होगा,
साढ़ा हक़ इथे रख,
एक नया अध्याय लिखना होगा,
कौन देगा हिसाब मेरी कमाई का ?

4 Comments

  1. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 22/05/2016
  2. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 22/05/2016
  3. C.M. Sharma C.m. sharma(babbu) 22/05/2016
  4. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 22/05/2016

Leave a Reply