मुझको याद है…

कैसे भूल सकता हु उस हसी शाम को
जुबा खामोश, निगाहो से बातें
देख एक दूसरे को मुस्कुराना,
वक्त गुजरा पर थम गयी सासे
मुझको याद है…

8 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 21/05/2016
    • mani mani 21/05/2016
  2. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 21/05/2016
    • mani mani 21/05/2016
  3. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 22/05/2016
    • mani mani 22/05/2016
  4. C.M. Sharma C.m sharma (babbu) 22/05/2016
    • mani mani 08/11/2016

Leave a Reply