बहन का प्यार

This poem is dedicated to my sister..

मेरी बहन है सबसे प्यारी, मेरी वो खुशियों की चाबी।
जब मै उससे गुस्सा हो जाती,हर तरह से वो मुझे मनाती।
कभी अपनी चीजें दे देती,कभी नए उपहार वो लाती।
तरह तरह के पकवान बनाकर,मेरे को वो खुश कर देती।
मेरी बहन है सबसे प्यारी,मेरी वो खुशियों की चाबी।
जब भी मैं उदास हो जाती,मेरे मन को वो बहलाती।
मेरे सिर पर हाथ फेरकर,मुझे प्यार से वो समझाती।
तरह तरह के जोक्स सुनाकर, मुझको वो खूब हंसाती।
मेरी बहन है सबसे प्यारी, मेरी वो खुशियों की चाबी।
जब भी मैं कोई गलती करती,माँ की डांट से मुझे बचाती।
फिर कभी माँ की तरह,कभी दोस्त बनकर मुझको समझाती।
तरह तरह के रौब दिखाकर, कभी मेरी टीचर बन जाती।
मेरी बहन है सबसे प्यारी, मेरी वो खुशियों की चाबी।

By:Dr Swati Gupta

6 Comments

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 21/05/2016
  2. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 22/05/2016
  3. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 22/05/2016
  4. babucm C.m sharma (babbu) 22/05/2016
  5. Dr Swati Gupta Dr Swati Gupta 23/05/2016
  6. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 23/05/2016

Leave a Reply