जिंदगी तुम बेवफा हो

जिंदगी तुम बेवफा
बचपन में अठखेली
स्वच्छ पारदर्शी मन
यौवन पर दुल्हन
खुशियों में आलिंगन
जोशीला तन-मन
चाहत में उमंग
ढलान पर पतझड़
टूटता अंग-अंग
फिर कटी पतंग

विजय कुमार सिंह

6 Comments

  1. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 21/05/2016
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 21/05/2016
  3. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 21/05/2016
    • विजय कुमार सिंह 23/05/2016
  4. C.M. Sharma C.m. sharma(babbu) 22/05/2016
    • विजय कुमार सिंह 23/05/2016

Leave a Reply